ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
यूकेडी ने किया उद्यान विभाग को कृषि विभाग में मर्ज करने का विरोध
May 25, 2020 • SANJEEV SHARMA

नवल टाइम्सः उत्तराखंड क्रांति दल ने उद्यान विभाग को कृषि विभाग में मर्ज करने के सरकार के निर्णय का विरोध किया है। दल ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है।

यूकेडी का कहना है कि सरकार अपने इस फैसले को वापस ले और उद्यान विभाग को और मजबूत बनाए। दल का कहना है कि उत्तराखंड राज्य का अस्सी प्रतिशत भूभाग पर्वतीय है, जिसमें औषधीय जड़ी बूटियों के साथ बागवानी की अपार संभावनायें है। बागवानी पर आधारित खेती से राज्यवासियों को रोजगार मिलेगा। लेकिन राज्य के बने इन 20 वर्षो में अभी तक कि सरकारों की ढुलमुल नीतियों के कारण उद्यान विभाग गर्त में गया। जिसका फायदा राजनीतिक लोगो एवम रसूखदारों ने उठाया।

दल का कहना है कि हमारे राज्य के पड़ोसी राज्य हिमाचल के अंतर्गत उद्यानों में आज राज्य का ब्रांड फल सेब है जो प्रचुर मात्रा में पैदा होता है जिसके कारण काश्तकार स्वालम्बी बना है, वही दूसरी तरफ समान भौगोलिक दशा के बावजूद उत्तराखंड राज्य में अपना ब्रांड फल अभी तक नही है भले इन 20 वर्षो में सरकारों ने बड़ी बड़ी बातें की लेकिन वह सब खानापूर्ति कागजों तक सीमित रही। सरकार द्वारा उद्यान विभाग को कृषि विभाग में मर्ज करने का निर्णय का दल घोर विरोध करता है।

एक तरफ जहाँ प्रवासियों की वापसी पर सरकार स्वरोजगार की बात कर रही है ऐसे में स्वरोजगार के अंतर्गत प्रवासी अपने गांवों में फल व बागवानी के द्वारा रोजगार प्राप्त कर सकते है, भौगोलिक व अनुकूल मृदा पर उत्तराखंड के पर्वतीय भूभाग में अच्छी व उन्नत किस्म के फल की पैदावार कर सकते है ऐसे में सरकार उद्यान विभाग को मर्ज न करके विभागीय ढांचे को और मजबूत करके स्वतंत्र रखे। यहाँ तक कि अभी तक जो कमियां रही हैं सरकार उसे दुरुस्त करें।

उद्यान विभाग के मर्ज होने पर सबसे ज्यादा विभागीय कर्मचारियों को नुकसान होगा, जिसे दल कतई बर्दाश्त नही करेगा, मर्ज होने की स्तिथि में उद्यान विभाग के कर्मचारी की वरिष्ठता भी नीचे हो जायेगी व पद्दोन्नति में भी नुकसान होगा। उद्यान विभाग को कृषि में मर्ज करने के निर्णय को सरकार अभिलम्ब वापस ले व उद्यान विभाग की उपयोगिता को पर्वतीय भूभाग में बड़ी ईमानदारी के साथ रोजगार के नये अवसर व राज्य का ब्रांड फल  बनाने में नये नीतिगत तरीके से लागू करे।

ज्ञापन सुनील ध्यानी के नेतृत्व में जिलाधिकारी के माध्यम से सीएम को भेजा गया। इस अवसर पर दल के केंद्रीय उपाध्यक्ष आशीष नौटियाल, जिलाध्यक्ष विजय बौड़ाई आदि उपस्थित रहे।