ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
उत्तराखण्डः सरकार और शासन पर बढता कोरोना का कहर
September 3, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

 

कोरोना संक्रमण का कहर अब बढ़ता ही जा रहा है। आम लोगों से होते हुए अब कोरोना ने सरकार पर ही हमला करना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री के ओएसडी व अन्य कर्मचारियों के बाद अब सचिवालय में भी कोरोना का कहर दिखाई दिया है। कोरोना ने सचिवालय में काम की रफ्तार पर लगाम दिया है। इस समय सतर्कता बरतते हुए सचिवालय के आठ कार्यालयों को बंद किया गया है।
कोरोना संक्रमण के दिनों-दिन बढ़ते मामलों के बीच अब सरकार और शासन पर भी महामारी का असर दिखाई देने लगा है। कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज कोविड पॉजिटिव पाये गये थे उसके बाद सीएम सेल्फ आइसोलेट हो गये थे। उसके बाद मुख्यमंत्री के दो ओएसडी के कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के चलते सीएम दो बाद सेल्फ आइसोलेट हो चुके हैं। उनके सेल्फ आइसोलेशन की अवधि आज शाम तक समाप्त हो जाएगी। वहीं सचिवालय में कोरोना संक्रमितों के मिलने के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। सचिवालय में आज भी दो अधिकारियों के संक्रमित मिलने की सूचना सोशल मीडिया में वायरल हो रही है।
इस तरह से सरकार और शासन तो कोरोना की चपेट में आ ही चुका है जिसके कारण प्रदेश के कामकाज भी प्रभावित होने लाजिमी है।

जब अधिकारी ही संक्रमित हो रहे हैं तो उनके कार्यालय के कर्मचारी भी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। यहां सवाल यह उठता है कि सरकार के इतने जागरूकता अभियानों के बावजूद सरकार और शासन में ही कोरोना का कहर बरपा है। तो क्या अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा कोविड—19 की गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। अधिकारी तो वैसे भी जल्दी से किसी बाहरी व्यक्ति से मिलते ही नहीं है और इन दिनों तो वैसे भी किसी से मिलने से कतरा रहे हैं तो अधिकारी कैसे कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। सचिवालय में लगभग
सचिवालय को किया गया सेनिटाइज
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत अपने विशेष कार्याधिकारी के कोरोना संक्रमित आने के बाद सीएम सेल्फ आइसोलेट हो गये थे। अब शुक्रवार को होने वाले कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री शामिल होंगे। इससे पहले बुधवार को होने वाली कैबिनेट बैठक स्थगित कर दी गयी थी। इससे पहले आज सचिवालय को सेनिटाइज भी किया गया।