ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
स्पर्श गंगा की तर्ज पर ही स्पर्श हिमालय अभियान की आवश्यकता: डॉ निशंक
July 18, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

स्पर्श गंगा और चमन लाल महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में गंगा के आध्यात्मिक, साहित्यिक और वैज्ञानिक स्वरूप पर आयोजित राष्ट्रीय वेबिनार में डॉ निशंक ने कहा की स्पर्श गंगा की तर्ज पर ही स्पर्श हिमालय अभियान की आवश्यकता है। युवाओं को गंगा के संरक्षण उसे और दुनिया की सबसे स्वच्छ नदी बनाने के अभियान का सक्रिय हिस्सा बनना चाहिए। उन्होंने स्पर्श शब्द की व्याख्या करते हुए कहा कि अपनी नदियों और अपनी धरती के साथ गहरे एहसास के साथ जुड़ने की जरूरत है। उन्होंने हरिद्वार को दुनिया की आध्यात्मिक राजधानी के रूप में विकसित किए जाने पर भी जोर दिया।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. निशंक ने युवाओं का आह्वान किया कि वे अपनी प्राकृतिक संपदा के संरक्षण के लिए रचनात्मक गतिविधियों का हिस्सा बनें। डॉ. निशंक ने हरिद्वार को दुनिया की आध्यात्मिक राजधानी बनाने और हर की पैड़ी को दुनिया के आध्यात्मिक आकर्षण का सर्वोत्तम केंद्र बनाने की जरूरत को भी रेखांकित किया। उन्होंने वैज्ञानिकों और शोधार्थियों का आह्वान किया कि वे गंगा के संरक्षण के लिए व्यापक कार्य योजनाएं तैयार करें।
उन्होंने कहा कि गंगा हमारे अस्तित्व की पहचान है। यह केवल नदी ही नहीं, बल्कि भारतीयता का प्रतीक और पर्याय भी है। गंगा भारत की जीवनधारा है ,और इसके किनारे पर विकसित हुई संस्कृतिया महान भारतीय परंपरा का उद्घोष करती हैं।

मुख्य अतिथि उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर देवी प्रसाद त्रिपाठी तथा मुख्य वक्ता श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर पी पी ध्यानी की उपस्थिति में विशिष्ट वक्ता पद्मश्री कल्याण सिंह रावत(मैती) ने उत्तराखंड की नदियों के संरक्षण के लिए समाज को सक्रिय भूमिका निभाने को कहा।

वेबिनार अध्यक्षता कर रहे गढ़वाल विश्वविद्यालय के प्रोफेसर प्रभाकर बडोनी ने धरातल पर ठोस कार्य योजनाएं लागू किए जाने की जरूरत बताई। वेबीनार का संचालन और संयोजन चमनलाल महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर सुशील उपाध्याय ने किया।

इस अवसर पर चमन लाल महाविद्यालय के प्रबंध समिति के कोषाध्यक्ष अतुल हरित, डॉ राखी उपाध्याय, डॉ अशोक गहलोत डॉ. बीना बेंजवाल आदि सहित देश के 24 राज्यों के 300 से अधिक विद्ववानों ने प्रतिभाग किया।