ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
श्रीमहंत रवींद्र पुरी देंगे मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए
April 12, 2020 • SANJEEV SHARMA

संजीव शर्मा, हरिद्वारः हरिद्वार में लॉकडाउन घोषित होने के बाद से मदद के लिए हरिद्वार में मंशादेवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष , पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के सचिव, एसएम जेएन पीजी कॉलेज की प्रबंधन समिति के सचिव एवं रामानंद इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड फार्मेसी के चेयरमैन श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कोरोनावायरस से प्रभावी रूप से आपदा पर नियंत्रण करने हेतु  मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए की धनराशि का एक चैक शहरी विकास मंत्री  श्री मदन कौशिक कैबिनेट मंत्री उत्तराखंड राज्य को कल सुपुर्द करेंगे।

श्रीमहंत रवींद्र पुरी ने बताया की इस धनराशि में  मनसा देवी ट्रस्ट द्वारा 25 लाख रुपए की सहयोग राशि तथा 26 लाख रुपए की सहयोग राशि का योगदान पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के माध्यम से किया गया है।

यहां यह उल्लेखनीय है की श्रीमहंत रविंद्र पुरी ने धार्मिक संस्था के रुप में सबसे पहले मदद देने के लिए अपने हाथ आगे बढाए। संस्था हरिद्वार में प्रशासन के साथ शुरू से ही आमजनों व यहां फंसे हुए यात्रियों की सेवा,सुश्रुषा में लगातार जुटी हुई है। प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की आर्थिक सहयोग की अपील से पूर्व ही श्रीमहंत रवींद्रपुरी महाराज ने आगे बढकर डीएम राहत कोष में 11 लाख रुपए संस्था की ओर दिये उसके बाद मुख्यमंत्री फंड के लिए नगर विकास मंत्री के माध्यम से 5 लाख रुपये का चैक दिया। अचानक लॉकडाउन बढ जाने से उत्तराखंड में फंस गए यात्रियों को हरिद्वार में रहने के लिए उचित स्थान उपलब्ध कराना भी प्रशासन के लिए चुनौती थी। श्रीमहंत रविंद्रपुरी ने इसके लिए भी आगे बढ़कर एक नयी पहल की व हरिद्वार में फंसे हुए यात्रियों के लिए मंशादेवी ट्रस्ट व पंचायती अखाड़ा श्रीनिरंजनी  की धर्मशालाओं के दरवाजे खोल दिये। जिनके खाने पीने का प्रबंधन भी संस्था कर रही है।

हरिद्वार में फंसे गुजरात के यात्रियों को उनके गंतव्यों तक पहुंचाने में भी श्री महंत रवींद्र पुरी ने 2 लाख रूपये का योगदान दिया। इसके अतिरिक्त लॉक डाउन अवधि के दौरान प्रतिदिन 1200 पैकेट भोजन के तैयार करा कर प्रशासन की मदद से व्यक्तियों तक पहुंचाए जिनकी इस अवधि में अत्यंत आवश्यकता थी।