ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
प्रो० गुलशन कुमार ढींगरा का चयन हुआ  डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन टीचर्स एक्सीलेंस अवॉर्ड 2020 हेतु
September 5, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

पंडित ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ऋषिकेश (श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय परिसर) के वनस्पति विज्ञान के प्रोफेसर व मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी के समन्वयक प्रो० गुलशन कुमार ढींगरा को शिक्षक दिवस के अवसर चयन हुआ 2020 का सर्वोच्च शिक्षक सम्मान (सर्वपल्ली राधाकृष्णन टीचर्स एक्सीलेंस अवार्ड 2020)

बता दें कि हर साल राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के अवसर पर यह सम्मान देश भर के उत्कृष्ट शैक्षिक प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को दिया जाता है। यह सम्मान शिक्षक कल्याण फाउंडेशन, ALTTC (बीएसएनएल) द्वारा हर साल आयोजित किया जाता है, जिसमे समिति द्वारा सभी मानक पूरा करने वाले शिक्षकों का इस सम्मान हेतु चयन किया गया है।

प्रोफ़ेसर ढींगरा के द्वारा किये गए सामाजिक और शैक्षिक कार्यो के लिए  यह दिया गया बता दें कि प्रो0 ढींगरा  ने 1994 में जवारलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से  स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त किया एवं 1994 में ही NET(JRF) व 1997 में 96 परसेंटाइल के साथ पूरे भारत मे 44वी रैंक से GATE क्वालीफाई किया था, 2001 में पी एच डी पूरी की।

प्रो ढींगरा 25 साल का लंबा टीचिंग व रिसर्च का अनुभव है, जिसमे 06 छात्रों को अपने सानिध्य में पी एच डी व 01 छात्रा को पोस्ट डॉक्टोरल फेलोशिप करवाया है तथा राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के लगभग 40 शोध पत्र प्रकाशित व 02 पुस्तकें एवं UGC की कई परियोजनाओं को समन्वयित करने का अनुभव प्राप्त है।
प्रो ढींगरा के नाम कई अवॉर्ड भी है, जिसमें प्रमुख हैं-
2010 में तत्कालीन कैबिनेट मंत्री श्री हरीश रावत द्वारा टैलेंट अवार्ड, 2010 में MLA गंगोत्री श्री गोपाल रावत द्वारा बेस्ट टीचर अवॉर्ड, जगदम्बा कॉलेज ऑफ़ इंजिनीरिंग द्वारा BITS पलानी के दुबई में 2015 में एमिनेंट रिसर्चर अवार्ड व 2016 में लायंस क्लब ऋषिकेश द्वारा उत्कर्ष शिक्षक सम्मान किया गया।
प्रो ढींगरा 2007 से 2014 तक यूकॉस्ट ने जिला उत्तरकाशी समन्वयक रहे जिसमे उन्होंने विज्ञान का लोकव्यापीकरण, स्वरोजगार को बढावा, औषधिय जड़ी बूटियों पर अनुसंधान, स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को प्रशिक्षण दिया।
महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो सुधा भारद्वाज, व अन्य प्राध्यापकों ने प्रो ढींगरा को बधाई दी।