ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
प्रशासन की एक गलतीः ग्रामीणों पर पड़ सकती है भारी
June 7, 2020 • SANJEEV SHARMA

टिहरीः कोरोना जैसी बीमारी को लेकर प्रशासन कितना लापरवाह है, जिसका एक उदाहरण प्रतापनगर में देखने को मिला हैं। जहां प्रशासन की एक गलती के कारण पूरे गांव में डर का माहौल है।
दरअसल, चार जून की रात 21 लोगों को बस के जरिए ऋषिकेश मुनिकीरेती से लंबगांव लाया गया। जिसमें से लगभग 14 लोग पदूरा पट्टी और 7 लोग ओन पट्टी के थे। जबकि मंजखेत गांव का एक युवक पॉजिटिव बताया जा रहा था। जिसे पांच जून को पूरी एतियाहत के साथ मंजखेत गांव के बेसिक स्कूल से एम्बुलेंस से टिहरी आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था।

लेकिन आपको जानकर ताज्जुब होगा कि 6 जून की शाम को उसे वापस गांव भेज दिया गया था। जिसके बाद स्थानीय प्रशासन ने उसी युवक के साथ-साथ उन 15 लोगों को आब गांव में एक होटल में क्वारंटाइन कर दिया जो उसके साथ बस में आये थे। ऐसे में ग्रामीण प्रशासन से सवाल कर रहे है कि आखिर उस युवक को क्यों ले जाया गया और क्यों वापस लाया गया? जब वह युवक पॉजिटिव है तो उसे वही रखा जाना चाहिए था और अगर उसे वापस भी भेजना था तो उसे अलग कमरे में आइसोलेट किया जाना चाहिए था। लेकिन यहां होटल में वह 2 लोग एक कमरे में है। इसके अलावा अन्य लोगों को भी उसी होटल रखा गया है।

यहीं कारण है कि ग्रामीण काफी डरे हुए है. उनका कहना है प्रशासन की इस लापरवाही से गांव में संक्रमण फैल सकता है।