ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
लॉकडाउन 3 मई तक घोषित जानिये क्या कहा प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में
April 14, 2020 • SANJEEV SHARMA

  • लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा।
  • हॉटस्पॉट बनने की आशंका वाले स्थानों पर कठोर क़दम उठाने होंगे।
  • कोरोना को नए क्षेत्रों में नहीं बढ़ने देना है।

संजीव शर्मा, हरिद्वारः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 10 बजे राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की, उन्होंने कहा है कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ आगे और लड़ाई कैसे लड़े इसे लेकर राज्यों के साथ निरंतर चर्चा हुई है । सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए 3 मई तक लॉकडाउन को बढ़ाया जा रहा है।

उन्होंने कहा, "लॉकडाउन की वजह से भारत अब तक कोरोना के नुक़सान को टालने में सफल रहा है। मैं जानता हूँ कि आपको कितने दिक़्क़तें आई हैं. किसी को खाने-पीने की परेशानी किसी को आने जाने की परेशानी. लेकिन आप अनुशासित सिपाही की तरह देश का कर्त्तव्य निभा रहे हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन का बहुत बड़ा लाभ मिला है। आर्थिक दृष्टि से यह महंगा ज़रूर लगता है लेकिन भारतवासियों की ज़िंदगी के सामने ये ज़्यादा नहीं।"

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा, "कोरोना को नए क्षेत्रों में नहीं बढ़ने देना है। हॉटस्पॉट की इंगित कर के सतर्कता बरतनी होगी। हॉटस्पॉट बनने की आशंका वाले स्थानों पर कठोर क़दम उठाने होंगे. अगले एक हफ़्ते में लॉकडाउन में कठोरता और बरती जाएगी. जिन इलाक़ों में आशंका कम होगी उन इलाक़ों में 20 अप्रैल के बाद कुछ छूट मिलेगी लेकिन ये सशर्त होगी।"

उन्होंने बताया, "जब देश में एक भी मरीज़ नहीं था तब ही कोरोना प्रभावित देशों से आने वाले लोगों की स्क्रिनिंग हमने शुरू कर दी थी। भारत ने समस्या बढ़ने का इंतज़ार नहीं किया। भारत दूसरे देशों की तुलना में बहुत संभली हुई स्थिति में है।"

उन्होंने संबोधन की शुरुआत में कहा, "मैं सभी देशवासियों की तरफ़ से बाबा साहेब को नमन करता हूँ। ये अलग-अलग त्यौहारों का समय है. भारत उत्सवों का देश है। हमेशा उत्सवों से हरा भरा है। अनेक राज्यों में नए वर्ष की शुरुआत हुई। जितने संयम से घरों में रहकर त्योहार मना रहे हैं ये प्रशंसनीय है। साथियों आज पूरे विश्व में कोरोना वायरस की महामारी की जो स्थिति है, उसमें भारत ने कैसे संक्रमण को रोकने का प्रयास किया है उसके आप सहभागी रहे हैं और साक्षी भी।"

उन्होंने सरकार की तैयारियों के ऊपर कहा कि दवा से लेकर किराना के सामान पर्याप्त मात्रा में देश में हैं। सप्लाई की बाधा दूर की जा रही है। कोरोना से निपटने के लिए एक लाख से ज़्यादा बेड का इंतज़ाम कर लिया गया है।धैर्य के साथ हम कोरोना का मुक़ाबला करेंगे तो इसे हराने में सफल रहेंगे।

आख़िर में मोदी ने भारत के लोगों से अपील करते हुए सात बातों में उनका साथ देने को कहा,

1.बुज़ुर्गों का ख़ास ख़याल रखें।

2.सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन करें।

3.अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के निर्देश का पालन करें।

4.कोरोना संक्रमण रोकने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप ज़रूर डाउनलोड करें।

5.जितना हो सके उतना ग़रीब परिवारों के भोजन की आवश्यकता पूरी करें।

6.अपने साथ काम करने वालों को नौकरी से न निकालें।

7.कोरोना से लड़ाई में शामिल डॉक्टर, नर्स, सफ़ाईकर्मी, पुलिस का सम्मान करें।

सभी लोग, प्रधानमंत्री के बुधवार सुबह 10 बजे राष्ट्रके नाम  संबोधन को सनने के लिये उत्सुक दिखे सभी उनके  संबोधन को ध्यान से जिम्मेदारी से देखा।