ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
क्यों हाईकोर्ट ने दिया फेसबुक और यूट्यूब को पतंजलि का वीडियो हटाने का दिया आदेश
June 3, 2020 • SANJEEV SHARMA

नवल टाइम्सः दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और यूट्यूब को एक हिंदी समाचार चैनल द्वारा डाले गए उस वीडियो को हटाने का निर्देश दिया है, जिसमें आरोप लगाया है कि पतंजलि आयुर्वेद ने देश के हितों के विरूद्ध लाल चंदन की लकडि़यां बेचीं।
न्यायमूर्ति वी के राव ने अपने अंतरिम आदेश में इस समाचार चैनल को संबंधित वीडियो समेत कोई भी ऐसी खबर या समाचार प्रसारित, प्रकाशित करने या अपनी वेबसाइट पर डालने से रोक दिया है, जो पतंजलि आयुर्वेद की बदनामी करने वाले या उसकी साख बिगाड़ने वाले हों। उच्च न्यायालय ने कहा कि पतजंलि की ओर से इस समाचार चैनल पर अंकुश लगाने के अनुरोध का प्रथम दृष्टया मामला बनता है और ऐसे में अगली सुनवाई की तारीख 17 सितंबर तक उस पर यह रोक रहेगी। न्यायाधीश ने कहाकि इसके अलावा मैं यह निर्देश देना उपयुक्त समझता हूं कि फेसबुक और यूट्यूब यूआरएल को हटा लें या उसे देखने से रोके जिसमें मानहानिकारक वीडियो है।
बता दें कि न्यायालय का यह आदेश पतंजलि की उस याचिका पर आया है, जिसमें दावा किया है गया है कि इस मानहानी कारक वीडियो में गंभीर आरोप लगाये गये हैं कि उसने देशहित के विरूद्ध लाल चंदन की लकडि़यां बेचीं।