ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
कुलदीप सैनी की कविता "रचना मेरे जीवन की" : वक़्त 
August 15, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

कुलदीप सैनी द्वारा रचित "रचना मेरे जीवन की" : वक़्त 

                                                                                                                                                                         मैं समझ बैठा मंजिल है, मेरे पास,                                                                                                                           कदम बढ़े, तो पाया रास्ता नहीं
रास्ता मिला तो, मंजिलें बढ़ गई, 
क्या करें वक्त के साथ, अपनी तन्हाई बढ़ गई।
ठोकरे मिली रास्ते में, हम मंजिल समझ बैठे, 
बिना विश्वास के हम अपना सब कुछ खो बैठे।
वक्त ने बताया, वक्त नहीं है तुम्हारे पास, 
वक्त का करो, तुम सही इस्तेमाल।
फिर चल दिया मैं, मंजिल की ओर
कभी नहीं लौटा मै  दूसरी ओर, 
वक्त का संबंध, वक्त ने बताया
वक्त ही था जिसने, साथ निभाया, 
सोई हुई, आत्मा को जगाया
फिर उसने अपना वक्त बताया।
मंजिलें यूं ही नहीं मिला करती वक्त के साथ, 
कर्म करने पड़ते हैं वक्त के साथ।                                                                                                                             कर्म करने पड़ते हैं वक्त के साथ।

                                                                  रचयिता - कुलदीप सैनी

                                       निवासीःसुभाष नगर,ज्वालापुर, हरिद्वार, उत्तराखण्ड