ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
किसने और क्यों की, मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग, पढिये पूरी खबर
September 3, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

हरिद्वार: आम आदमी पार्टी के द्वारा, पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता की गई, जिसमें पार्टी की जिला अध्यक्ष हेमा भण्डारी ने प्रदेश सरकार के 3 साल की प्रदेश के लिए बदहाल बताते हुए मुख्यमंत्री से नैतिक आधार पर इस्तीफे की मांग की।

उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े नारों और वादों के साथ देवभूमि उत्तराखंड में सत्तासीन हुई बीजेपी सरकार ने उत्तराखंड को लूट का अड्डा बना दिया है। 20 साल के इस युवा प्रदेश को भ्रष्टाचार की चाशनी में लपेटा जा रहा है और इस सब में सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत आँखें मूंदे बैठे हैं. भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेन्स की बात कहने वाली बीजेपी और उनके मुख्यमंत्री पर उन्हीं की पार्टी के विधायक बार-बार बोल रहे हैं कि आपके विभाग में भ्रष्टाचार हुआ है, और वो सुनने-समझने को तैयार नहीं हैं।

लोहाघाट के बीजेपी विधायक पूरन सिंह फर्त्याल मुख्यमंत्री के विभाग में भ्रष्टाचार के साथ साथ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पर ये भी आरोप लगा रहे हैं कि वे दोषियों को बचा रहे हैं।

डीडीहाट से 6 बार के विधायक एवम पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल दिल्ली में त्रिवेंद्र सरकार के खिलाफ दिल्ली में डेरा डाले बैठे हैं जिनके साथ 15 ओर विधायको का समर्थंन है, जो अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ आन्दोलनरत है और त्रिवेंद्र सरकार नौकरशाही हावी होने एवम भृष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं।

आम आदमी पार्टी मांग करती है कि उत्तराखंड में भ्रष्टाचारियों के खेवनहार बने मुख्यमंत्री को तुरंत नैतिकता के आधार पर खुद ही इस्तीफा दे देना चाहिए।