ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
केदारनाथ धाम के रावल 20 अप्रैल तक पहुंचेंगे उत्तराखंड
April 15, 2020 • SANJEEV SHARMA
  • महाराष्ट्र सरकार ने दी जाने की अनुमति

रुद्रप्रयागः ग्याहरवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के रावल 1008 भीमा शंकर लिंग 29 अप्रैल को धाम के कपाटोद्घाटन से पूर्व ऊखीमठ पहुंच जाएंगे। महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें उत्तराखंड आने की अनुमति दे दी है। हालांकि अभी ये तय नहीं है कि वे किस माध्यम से यहां आएंगे। रावल ने बताया कि वे इन दिनों नांदेड़ (महाराष्ट्र) में हैं। उन्होंने सरकार से ऊखीमठ जाने की अनुमति मांगी थी, जो उन्हें मिल गई है। 

केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की सभी परंपराएं रावल की मौजूदगी में होती हैं। इस बार भी रावल पंचकेदार गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से बाबा केदार की पंचमुखी भोगमूर्ति की चल विग्रह उत्सव डोली के साथ केदारनाथ पहुंचेगे। देशभर में कोरोना संक्रमण के चलते कयास लगाए जा रहे थे कि महाराष्ट्र के नांदेड़ में मौजूद रावल निश्चित तिथि तक केदारनाथ नहीं पहुंच पाएंगे। लेकिन रावल भीमाशंकर ने फोन पर हुई बातचीत में बताया कि वे 20 अप्रैल तक ऊखीमठ पहुंच जाएंगे।
उन्होंने कुछ दिन पूर्व भी ऊखीमठ जाने की अनुमति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। अब, महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें जाने की अनमुति दे दी है। बताया कि यहां की सरकार जो भी व्यवस्था करेगी, उसी माध्यम से वे ऊखीमठ जाएंगे। कहा कि वे केदारनाथ धाम के कपाट खुलने व शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में डोली प्रस्थान से पूर्व होने वाली परंपराओं में शामिल होंगे। 30 अप्रैल को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने हैं।
बदरीनाथ के रावल केरल में हैं और उन्हें सड़क मार्ग से उत्तराखंड लाना खासा चुनौतीपूर्ण हैं। शासन ने गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर रावल को उत्तराखंड पहुंचाने का आग्रह किया है। शासन का कहना है कि गृह मंत्रालय के जवाब का इंतजार किया जा रहा है। सरकार का कहना है कि मंदिरों के कपाट तो मुहूर्त के अनुसार तय तिथियों पर खोल दिए जाएंगे, लेकिन भगवान के दर्शनों के लिए भक्त कब उनके धाम पर पहुंचेंगे, अभी तस्वीर पूरी तरह से साफ नहीं है।