ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
कविता जैन की व्यंगात्मक रचनाः स्कूल बैग की व्यथा
April 23, 2020 • SANJEEV SHARMA

कविता जैन ने कोरोना संकट के इस समय में बच्चों के स्कूल बैग और किताबों के बीच हुयी बातचीत को बहुत ही रोचकता भरे शब्दों  में पिरो कर आज के परिवेश को दर्शाया है, ये है कविता की  व्यंगात्मक रचना  स्कूल बैग की व्यथा

 

स्कूल बैग ने किताबों से कहा कि,

तुम्हारे और मेरे बीच में यह

कैसी, सोशल डिस्टेंसिंग है।

तुम, और मैं तो एक दूसरे के बिना

अधूरे से लगते हैं, कब खत्म होगी

यह सोशल डिस्टेंसिंग, मैं तो

खाली रह रह कर थक गया हूं।

                                         कब खत्म होगा यह लोग डाउन,

                                         जब मैं, और तुम फिर से,

                                         नन्हे-मुन्ने बच्चों  के कंधों पर

                                         टंग कर स्कूल जा सकेंगे।

किताबों ने हंसकर कहा, पहले

सेनेटाइज, होकर आओ फिर

हम तुम्हारे साथ आएंगे।

                                         बैग ने कहा, तुम भी अपना ध्यान रखो,

                                         पता है ना, सब तुम्हारे पन्ने

                                         कैसे पलटते हैं, तो बस हम सब को

अपना ध्यान रखना है और,

लॉकडाउन खुलने से पहले  हमें,

अपने आप को सुरक्षित रखना है।

जिससे हम, अपने प्यारे

                                           बच्चों का, ध्यान रख सकें व

                                           उन्हें, सुरक्षित रख सकें ,

                                           हां हम उन्हें, सुरक्षित रख सकें ।

तो यह थी एक बैग की लॉकडाउन खत्म होने के इंतजार में अपनी व्यथा

  द्वाराः कविता जैन

 

 

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

OnLine Classes are Going to start By STEP CLASSES

Class VI To X : MATHS, SCIENCE  & Class XI To XII : PHYSICS

Contacts:  9897106991,  9319660004 ,  8077683154 ,  9897565446