ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
गुजरात के मुख्यमंत्री ने पत्र लिखकर जाना हरिद्वार के गुज्जु परिवार का हालचाल
August 30, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

हरिद्वार: गुजरात से लगभग डेढ हजार किमी दूर हरिद्वार में गुजरात के दो सौ से अधिक परिवार बसते हैं। सिडकुल सहित विभिन्न क्षेत्रों में नौकरीपेशा एवं व्यवसाय से जुड़े हैं। इन गुजराती परिवार ने हरिद्वार गुज्जू परिवार के नाम से एक संगठन बनाया है। समय-समय पर गरीब परिवार एवं जरूरतमंदों की सेवा सुश्रूषा करना संगठन का प्रमुख कार्यों में से एक हैं। गुज्जू परिवार सदैव से अपनी माटी एवं सरकार के साथ जुड़े रहते हैं।
यही कारण गुज्जु परिवार देश-विदेश में जहाँ कहीं भी रहते हैं गुजरात सरकार उनके हर सुख-दुःख में भागीदारी अनुभव करता है। इसका ताजा उदाहरण आज गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने जन्मदिन पर एक भावनात्मक पत्र भेजकर इस खुशी के मौके पर हरिद्वार गुज्जू परिवार को याद किया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि गुजरात सरकार अपने प्रत्येक नागरिकों के साथ जो जहाँ हैं, सदैव साथ खड़ा है। उल्लेखनीय है कि देशभर में निवास करने वाले अप्रवासी गुजरातियों के लिए नॉन रेसिडेंसल गुजराती (एनआरजी) फाउडेंशन का गठन किया है, जो सीधे गुजरात सरकार के अधीन काम करता है।
हरिद्वार गुज्जू परिवार के प्रमुख राजेशभाई पाठक ने बताया कि गुजरात से बाहर रहते हुए प्रत्येक गुजराती परिवार अपनी संस्कृति को बचाये रखने के लिए संकल्पित है। गुजरात के मुख्यमंत्री श्री रूपाणी ने अपने ६३वें जन्मदिन के मौके पर हम लोगों को याद किया है, यह हमें अपनी मिट्टी से और निकट ले आया है। आज पत्र प्राप्त होने पर गुज्जू समाज के अग्रणी रमेशभाई ठाकर, राजेशभाई प्रजापति, पवनभाई दवे, लक्ष्मणभाई, डोलीबेन देसाई, मिलनभाई, लहरभाई, मोण्टूभाई आदि ने प्रसन्नता व्यक्त की है।