ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
दून अस्पताल से गांधी शताब्दी अस्पताल को मिले अतिरिक्त डॉक्टर व अन्य स्टाफ
April 15, 2020 • SANJEEV SHARMA

देहरादून, नवल टाइम्सः राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के कोरोना अस्पताल बनने के बाद खासकर गर्भवती महिलाओं के इलाज और प्रसव को लेकर राजकीय जिला गांधी शताब्दी अस्पताल पर दवाब बढ़ गया है। इसे देखते हुए दून अस्पताल से अब कुछ डॉक्टरों और अन्य स्टाफ की तैनाती गांधी शताब्दी अस्पताल में कर दी गई है।

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के महिला विंग में रोजाना अन्य सरकारी अस्पतालों की तुलना में डिलीवरी के सबसे अधिक मामले आते हैं। दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल को राज्य सरकार ने फिलहाल कोरोना से निपटने के लिए डेडिकेट किया हुआ है। दून अस्पताल में ही कोरोना संक्रमित व संदिग्ध ज्यादातर मरीज भर्ती हैं। ऐसे में दून अस्पताल से महिला संबंधी रोगों और गर्भवतियों को गांधी शताब्दी अस्पताल भेज जा रहा है।

ऐसे में अस्पताल में अचानक मरीजों का बोझ बढ़ गया है। अस्प्ताल में गाइनी के 78 बेड हैं, पर स्टाफ उस अनुपात में कम है। दून अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके टम्टा ने बताया कि अस्पताल से एक बाल रोग विशेषज्ञ, एसएनसीयू से दो मेडिकल ऑफिसर, 13 स्टाफ नर्स, 10 सिस्टर व एक वार्ड ब्वाय की ड्यूटी वहां लगाई है। वहीं, छह फोटो थेरेपी यूनिट, 10 वॉर्मर, पांच इन्फ्यूजन पंप और तीन एलएससीएस सेट भी गांधी शताब्दी अस्पताल को दिए हैं।

वहीं, गांधी शताब्दी एवं कोरोनेशन अस्पताल (जिला अस्पताल) के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बीसी रमोला का कहना है कि अतिरिक्त डॉक्टर व स्टाफ मिल जाने से व्यवस्था बेहतर होगी। वार्ड आया, सफाई कर्मी, सुरक्षा कर्मी, तीन एंबुलेंस व एंबुलेंस चालक की भी डिमांड भेजी गई है।