ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
अपर मेला अधिकारी ने दिया आश्वासन, कुंभ मेले के सभी कार्य होगें समय से पूर्ण
September 3, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

हरिद्वारः अपर मेला अधिकारी हरवीर सिंह ने उत्तरी हरिद्वार स्थित साधुबेला आश्रम में संतों से कुंभ मेले पर चर्चा की। चर्चा के दौरान उन्होंने संतों को सभी कार्य समय से पूर्ण करने का आश्वासन देते हुए कहा कि संतों व प्रशासन के समन्वय से कुंभ मेला सकुशल व भव्य रूप से संपन्न होगा।

गुरुवार को उत्तरी हरिद्वार स्थित साधुबेला आश्रम पहुंचे अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह का कुंभ मेला प्रभारी श्रीमहंत दुर्गादास महाराज व साधुबेला पीठाधीश्वर आचार्य स्वामी गौरीशंकर दास महाराज ने रूद्राक्ष की माला पहनाकर व शाॅल ओढ़ाकर स्वागत किया। इस दौरान श्रीमहंत दुर्गादास महाराज ने कहा कि संत बाहुल्य उत्तरी हरिद्वार क्षेत्र में आश्रमों, मठ, मंदिरों व गंगा घाटों के सौन्दर्यकरण कार्य शीघ्र शुरू कराए जाएं। साथ ही संतों के शिविर स्थापित करने के लिए अखाड़ों व आश्रमों को भूमि आवंटन की प्रक्रिया जल्द शुरू की जाए। जिससे अखाड़े समय रहते अपनी व्यवस्थाएं पूर्ण कर सकें।

श्रीमहंत दुर्गादास महाराज ने कहा कि कुंभ मेला शुरू होने का समय लगातार नजदीक आ रहा है। ऐसे में मेले से संबंधी सभी व्यवस्थाएं समय पर पूर्ण होनी चाहिए। जिससे मेले के दौरान संतों व श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पड़े। आचार्य स्वामी गौरीशंकर दास महाराज ने कहा कि संत बाहुल्य क्षेत्र होने की वजह से कुंभ मेले के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु संतों के दर्शन व आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए उत्तरी हरिद्वार के आश्रमों में आते हैं। इसलिए उत्तरी हरिद्वार के आश्रमों, मठ, मंदिरों के सौन्दर्यकरण के कार्य शीघ्र शुरू कराए जाने चाहिए।

अपर मेला अधिकारी हरबीर सिंह ने संतों को आश्वासन देते हुए कहा कि सौन्दर्यकरण सहित सभी कार्य समय पर पूरे कर लिए जाएंगे। मेला प्रशासन अपने दायित्वों के प्रति पूरी तरह सजग है। कुंभ मेले के दौरान संतों व श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की समस्या नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए मेला प्रशासन संत समाज के साथ समन्वय बनाकर चल रहा है। संत महापुरूषों व मेला प्रशासन के समन्वय से कुंभ मेला सकुशल व भव्य रूप से संपन्न होगा। इस दौरान श्रीमहंत त्रिलोचन सिंह मेहरबान सिंह सोढ़ी, श्रीमहंत जसकीरत सिंह सोढ़ी, स्वामी बलराम मुनि, गोपाल दत्त पुनेठा, विष्णुदत्त पुनेठा, जीतू भाई, सुनील, राजेश नैथानी आदि मौजूद रहे।