ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
अभिव्यक्ति/साहित्यः राशि सक्सैना, बस यूं ही......... कलम 13
September 4, 2020 • Dr. SANDEEP BHARDWAJ

राशि सक्सैना, बस यूं ही.............................     कलम 13

राशि सक्सैनाः आजकल हिंदुस्तानी मीडिया दो ध्रुवों में बटी सी दिखाई दे रही है, या तो वो सरकार के पक्ष में है या विपक्ष में, ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है ये पहले भी हुआ है, मगर इस बार जनता जागरूक है, आज का आम इंसान केवल समाचार को सुनता ही नहीं बल्कि सोचता भी है।

अपनी अपनी मानसिकता के अनुसार, इसी लिए मीडिया का दायित्व भी बढ़ जाता है, अगर मीडिया अपनी जिम्मेदारी को निष्पक्ष हो कर नहीं निभाती तो आने वाले समय में समाज में असंतुलित स्थिति आ जायेगी जो वास्तिवक समस्याओं को और विकट बना देगी, अगर मूलभूत समस्याओं के समाधान की ओर गंभीरता से सोच नहीं गया तो, गृहयुद्ध की बिगुल छिड़ने में देर नहीं लगती ऐसा कई देशों के इतिहास में सिद्ध हो चुका है।

देश इस समय एक ओर तो चीन के साथ कभी कोरोना समस्या, तो कभी बॉर्डर पर युद्ध की आहट सुन रहा है, तो दूसरी तरफ देश के अंदर ही कुछ ऐसे लोगों की मौजूदगी का अहसास कर रहा है जिन्हे देश से कोई सरोकार नहीं है बस उन्हें अपने कर्तव्यों को ताक पर रख अधिकारों की लड़ाई लड़नी है मौका पड़ने पर वो भारत के खिलाफ ही बोलने लगते हैं, कोई भी देश तब आगे बढ़ता है जब उसे एक राजा आगे बढ़ाता है पर हमारे देश में चुनाव का अधिकार मिलने से लोग अब अपने राजा का सम्मान करना ही भूल गए हैं, देश से ज्यादा अहमियत कुर्सी की हो चुकी है।

ऐसे में मीडिया की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है, अगर कोई मीडिया सुशांत के मुद्दे को गंभीरता से उठा रहा है तो शायद ये एक शुरुआत है देश के अंदर उपस्थित नकारात्मक प्रवत्तियों को सामने लाने की, जो अपने मतलब के लिए किसी भी हद तक जाकर कुछ भी कर सकते हैं, मुझे नहीं पता गुनाहगार कौन है और क्या आगे भी ये सिलसिला चलेगा या नहीं, लेकिन ये ज़रूर कह सकती हूँ की बाहर की दुनिया में जाने से पहले अंदर से मजबूत होना भी ज़रूरी है, जब तक देश विरोधी हैं तब तक कितने भी राफेल आजायें हमारी सुरक्षा मजबूत नहीं है इसीलिए मीडिया दो पक्षों में बटें चलेगा लेकिन वो पक्ष सरकार के इर्द गिर्द न होकर समस्याओं के इर्द गिर्द हो बढ़िया रहेगा, ऐसा मेरा मानना है बाकी.......