ALL विज्ञान स्वास्थ्य स्वाद समाचार ज्ञानवर्धक जानकारी जनहित abhivyakti
आईआईटी रुड़की ने बनाया कम लागत वाला फेस शील्ड, ऋषिकेश एम्स में होगा उपयोग
April 3, 2020 • SANJEEV SHARMA
रुड़की,नवल टाइम्सः आईआईटी रुड़की ने एम्स-ऋषिकेश के हेल्थकेयर पेशेवरों की कोविड -19 से फ्रंटलाइन सुरक्षा के लिए कम लागत वाला फेस शील्ड विकसित किया है।
फेस शील्ड का फ्रेम 3-डी प्रिंटेड है। कोविड-19 रोगियों के वार्ड में प्रवेश करते समय स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अन्य सुरक्षा उपकरणों के साथ ही इस शील्ड का उपयोग किया जा सकता है। सुरक्षा कवच का डिजाइन स्पेक्टेकल के प्रकार का है और इस शील्ड को बदलना बहुत आसान है, क्योंकि पारदर्शी शीट पुनरू उपयोग में आने वाली फ्रेम से बंधी नहीं होती है। शीट की लागत केवल 5 रुपये है। प्रति शील्ड की निर्माण लागत लगभग 45 रुपये हैं। बड़े पैमाने पर निर्माण करने पर प्रति शील्ड लागत केवल 25 रुपये आएगी।
मैं फ्रंटलाइन हेल्थकेयर पेशेवरों की सुरक्षा के लिए फेस शील्ड विकसित करने के इस सराहनीय काम के लिए आईआईटी रुड़की को बधाई देना चाहूंगा। मुझे पूरा विश्वास है कि यह फेस शील्ड न केवल हमारे संस्थान के बल्कि पूरे देश के स्वास्थ्य कर्मियों के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगा,” प्रो.रवि कांत, एम्स-ऋषिकेश, ने कहा।
इस शील्ड को आईआईटी रुड़की के टिंकरिंग लैब में विकसित किया गया है। टिंकरिंग लैब आईआईटी रुड़की के छात्रों के लिए एक तकनीकी सुविधा है। टिंकरिंग लैब छात्रों को कुछ नया और बेहतर करने के लिए एक मंच प्रदान करने के साथ ही उनके बीच सरल भाव पैदा करता है। यह नवाचार, प्रयोग, कल्पनाशीलता और अन्य प्रकार की रचनात्मकताओं को बढ़ावा देता है। आईआईटी रुड़की के टिंकरिंग लैब के समन्वयक, प्रो. अक्षय द्विवेदी ने कहा, यह फेस शील्ड उन सभी स्वास्थ्य कर्मियों के लिए हमारी ओर से एक छोटी-सी भेंट है, जो मानवजाति के कल्याण के लिए दिन-रात काम कर रहे। “हम कोविड-19 रोगियों की देखभाल में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों और उनके अथक प्रयासों की सराहना करते हैं। मुझे यकीन है कि ये फेस शील्ड बीमारी के संचरण जोखिम को कम करने में मदद करेंगे और इन कर्मियों को स्वास्थ्य संबंधी खतरे से सुरक्षित रखेंगे, ”प्रो अजीत के चतुर्वेदी, निदेशक, आईआईटी रुड़की, ने कहा। एम्स-ऋषिकेश के अनुरोध पर आईआईटी रुड़की अपने पहले 100 फेस शील्ड इस स्वास्थ्य संस्थान को भेजेगा।